Kavita Sangrah

शब्द


बख्श दीजिये आँखों पे ना इतना चढ़ाइए 
कल कोई पहचानने से इंकार ना कर दे

शब्द 
अजन्मा अशेष शाश्वत 
मूल धातु तो ध्वनि है 
जो आकृति –मूलक होकर 
आकार ग्रहण करता है 
उदभव भले ही किसी भाषा के महासागर से हुआ हो 
फिर भी उसकी बपौती नहीं है 
उसकी प्राण शाखा 
किसी दूसरी भाषा की प्राण शाखा से मिलकर ही 
जीवन में रहता है 
चिरंतन नित्य अपराजेय दिक् कालातीत 
अन्यथा 
शब्द शिशु की तरह 
भ्रूण से ही मरना सीख लेते हैं |


Shabd


Bakhsh deejiye aankhon pe na itana chadhaie,
kal koee pahachaanane se inkaar na kar de…

shabd
ajanma ashesh shaashvat 
mool dhaatu to dhvani hai 
jo aakrti –moolak hokar
aakaar grahan karata hai
udabhav bhale hee kisee bhaasha ke mahaasaagar se hua ho
phir bhee usakee bapautee nahin hai
usakee praan shaakha
kisee doosaree bhaasha kee praan shaakha se milakar hee
jeevan mein rahata hai
chirantan nity aparaajey dik kaalaateet
anyatha
shabd shishu kee tarah
bhroon se hee marana seekh lete hain


Leave a Comment