Rachana Sangrah

प्रेमचंद के मानवेतर चरित्र


कथाकार प्रेमचंद की लेखन शैली की विशेषता यह रही है कि चरित्र और परिवेश के चुनाव में एक सतर्क दृष्टि तथा सोद्देश्य वातावरण निर्माण के कारण कहानी प्रत्येक पाठक की आत्मचेतना की स्थायी स्मृति बन जाती है .

अपने विपुल कथा सृजन में लेखक ने समाज ,व्यक्ति ,धर्म इत्यादि के विषय में विस्तारपूर्वक चिंतन मनन तो किया ही है साथ ही ,समाज और व्यक्ति के साथ ही अपने मानवेतर चरित्रों को भी उसी संज्ञान के साथ चित्रित किया है .चरित्रों के प्रतिस्थापन में मानव एवं मानवेतर का सहयोगपूर्वक निर्वाह किया गया है .इन चरित्रों की ऐसी भागीदारी प्रेमचंद पूर्व एवं प्रेमचंदोत्तर कथा साहित्य में नहीं मिलती है .प्रेमचंद अपने ऐसे चरित्रों के सृजन में इतने सिद्ध हैं कि पाठक मानव चरित्रों में मानवेतर एवं मानवेतर चरित्रों में मानवीय संज्ञान का साक्षी हो जाता है .संसार के इस सत्य को कथाकार कि सभी जीवों में आत्मचेतना सामान होती है और इससे भी अधिक कि ‘कुछ कर गुजरने का हौसला’ सिर्फ मानवीय चेतना में ही नहीं बल्कि मानवेतर जीवों में भी उतनी ही बेचैनी पैदा करती है जिस कारण मौका मिलते ही ये कुछ ऐसा कर गुजरते हैं जिसको लक्ष्य कर संस्कृत साहित्य तो अपने वांग्मय को सौष्ठव प्रदान कर ही चुका है ; हिंदी कथा साहित्य को प्रेमचंद ने समानता के सिद्धांत पर खरा उतर दिया है .ध्यातव्य यह है कि मानवेतर पात्र अपनी सहज प्रवृत्ति के साथ मानवीय समाज को अथवा के लिए अपने व्यवहार से कुछ ऐसी शिक्षा दे जाते हैं जो मात्र उपदेशात्मक न होकर व्यावहारिक जीवन बोध एवं नैतिकता का बड़ी सरलता से उदाहरण पेश कर देते हैं .इसके पीछे लेखक का विशाल जीवन बोध ही है जो इन दोनों के लिए तटस्थ और निष्पक्ष दृष्टिबोध को जन्मा देता है .

प्रेमचंद का लेखन हिंदी और हिंदुस्तान के लिए चेतना की गहराइयों तक उतरने,झकझोरने ,नींद से जगाने तथा अपने अस्तित्व के संकट से उपजी चारित्रिक विषमताओं के प्रति सजग ,सावधान और समाधान की जीवन यात्रा है .इसके लिए सबका सहयोग आवश्यक ही था .मुक्ति अकेले नहीं समूह के साथ सफल होती है .शोषण ,अत्याचार ,दमन .पराधीनता का दंश सिर्फ मनुष्य ही नहीं भोगते ये मानवेतर समूह भी सदियों से भोगते रहे हैं .मनुष्य जंगल से निकलकर ,अपना समाज बनाकर भी पाशविक वृत्ति से मुक्ति नहीं पा सका .इतना ही नहीं अपनी आजीविका ,धार्मिक कृत्यों की सफलता यहाँ तक की अपनी मुक्ति या मोक्ष कामना के लिए ऐसे मानवेतर जीवो को साथ रखने के लिए विवश हुआ .मनुष्य अपने बौद्धिक विकास के साथ –साथ भीतर धंसे पशुओं की पाशविक वृतियों का भी समय समय पर विकास करता रहा .उसे ‘’सोशल एनीमल ‘’ यों ही नहीं कहा गया है .इस मामले में पशु पक्षिओं का जीवन चिंतन नहीं बदला .महाकवि निराला अपनी एक कविता में कहते हैं –‘’विप्लव रण में छोटे भी है शोभा पाते ‘’.यह कथन भी कवि ने उस समय प्रासंगिक दिखाया है जब राम रावण का युद्ध चरम पर है और अनिर्णीत है .यह दशा राम की है कि उनका अंतर्विरोध बढ़ता जा रहा है .स्थिर राम को संशय अस्थिर कर रहा है .यह उनके जीवन का निर्णायक युद्ध हो गया है .पुनः कोई इतना भीषण युद्ध राम के जीवन में आया हो जहाँ अस्तित्व के साथ आत्मविश्वास भी दाव पर चढ़ गया हो ऐसा उल्लेख नहीं मिलता .इस कविता में निराला का निरालापन इस तथ्य से असाधारण हो जाता है कि राम का संशय रावण की आसुरी शक्ति के बढ़ते प्रहार के कारण नहीं बल्कि अपने आत्मविश्वास के डिगने के कारण उदित हुआ है.ऐसे में उनका सहयोग मानवीय शक्तियों के बदले मानवेतर चरित्रों ने विजय प्राप्त करने तक किया .

वैसे ही ,प्रेमचंद की रचनाओं के मानवेतर चरित्र विचारणीय हैं जिसके सहयोग से ‘अपने रण में ‘ लेखक निर्विघ्न निकलता चला गया और वहां तक सफलता हासिल कर ली की ये चरित्र कई जगह मानवीय चरित्रों से अधिक नहीं तो कम भी नहीं रहे .कई जगह तो बाजी मार ली .हमारी पंचतंत्रीय परम्परा में तो ये शिक्षक ही रहे .प्रेमचंद का उद्देश्य सिर्फ सहयोग ,जागरण ,उद्बोधन के रूप में मानवेतर चरित्रों के निर्वाह में रहा .यह एक शोध का चिंतन तो हो ही सकता है कि ये मानवेतर चरित्र प्रेमचंद की आधुनिकता के साथ साथ उनकी परम्परागत, सांस्कृतिक दृष्टि- सम्पन्नता भी सिद्ध करती है .विवेचना की पहली किश्त में प्रेमचंद की कहानियो में चित्रित मानवेतर चरित्र हैं

कहानियां

दो बैलों की कथा

यह कहानी प्रेमचंद की दो बैल – हीरा मोती की उस जोड़ी की है जिसने कभी एक दुसरे का साथ नहीं छोड़ा चाहे मामला मौज मस्ती की हो या कैद से मुक्त होने की ,दोनों की आपसी समझदारी भी साझेदारी में थी .प्रेमचंद लिखते हैं कि दोनों एक दुसरे का भाव ताड़ लेते थे . कहानी का प्रारंभ इस प्रसंग के साथ होता है –कदाचित सीधापन संसार के लिए उचित नहीं है .देखिये न , भारतवासियों की अफ्रीका में क्या दुर्दशा हो रही है ? क्यों अमरीका में उन्हें घुसने नहीं दिया जाता?बेचारे शराब नहीं पीते,चार पैसे कुसमय के लिए बचा कर रखते है ,जी तोड़कर काम करते हैं ,किसी से लड़ाई झगडा नहीं करते चार बातें सुनकर गम खा जाते हैं फिर भी बदनाम हैं .कहा जाता है वे जीवन के आदर्श नीचा करते हैं .अगर वे ईट का जवाब पत्थर से देना सिख जाते तो शायद सभ्य कहलाने लगते .जापान की मिसाल सामने है . एक ही विजय ने उसे संसार की सभ्य जाति में गण्य कर दिया


Premachand ke maanavetar charitra


Kathaakaar premachand kee lekhan shailee kee visheshata yah rahee hai ki charitr aur parivesh ke chunaav mein ek satark drshti tatha soddeshy vaataavaran nirmaan ke kaaran kahaanee pratyek paathak kee aatmachetana kee sthaayee smrti ban jaatee hai .

Apane vipul katha srjan mein lekhak ne  samaaj ,vyakti ,dharm ityaadi ke vishay mein vistaarapoorvak chintan manan to kiya hee hai saath hee ,samaaj aur vyakti ke saath hee apane maanavetar charitron ko bhee usee sangyaan ke saath chitrit kiya hai .charitron ke pratisthaapan mein maanav evan maanavetar ka sahayogapoorvak nirvaah kiya gaya hai .in charitron kee aisee bhaageedaaree premachand poorv evan premachandottar katha saahity mein nahin milatee hai .premachand apane aise charitron ke srjan mein itane siddh hain ki paathak maanav charitron mein maanavetar evan maanavetar charitron mein maanaveey sangyaan ka saakshee ho jaata hai .sansaar ke is saty ko kathaakaar ki sabhee jeevon mein aatmachetana saamaan hotee hai aur isase bhee adhik ki ‘kuchh kar gujarane ka hausala’ sirph maanaveey chetana mein hee nahin balki maanavetar jeevon mein bhee utanee hee bechainee paida karatee hai jis kaaran mauka milate hee ye kuchh aisa kar gujarate hain jisako lakshy kar sanskrt saahity to apane vaangmay ko saushthav pradaan kar hee chuka hai ; hindee katha saahity ko premachand ne samaanata ke siddhaant par khara utar diya hai .dhyaatavy yah hai ki maanavetar paatr apanee sahaj pravrtti ke saath maanaveey samaaj ko athava ke lie apane vyavahaar se kuchh aisee shiksha de jaate hain jo maatr upadeshaatmak na hokar vyaavahaarik jeevan bodh evan naitikata ka badee saralata se udaaharan pesh kar dete hain .isake peechhe lekhak ka vishaal jeevan bodh hee hai jo in donon ke lie tatasth aur nishpaksh drshtibodh ko janma deta hai .

Premachand ka lekhan hindi aur hindustaan ke lie chetana kee gaharaiyon tak utarane,jhakajhorane ,neend se jagaane tatha apane astitv ke sankat se upajee chaaritrik vishamataon ke prati sajag ,saavadhaan aur samaadhaan kee jeevan yaatra hai .isake lie sabaka sahayog aavashyak hee tha .mukti akele nahin samooh ke saath saphal hotee hai .shoshan ,atyaachaar ,daman .paraadheenata ka dansh sirph manushy hee nahin bhogate ye maanavetar samooh bhee sadiyon se bhogate rahe hain .manushy jangal se nikalakar ,apana samaaj banaakar bhee paashavik vrtti se mukti nahin pa saka .itana hee nahin apanee aajeevika ,dhaarmik krtyon kee saphalata yahaan tak kee apanee mukti ya moksh kaamana ke lie aise maanavetar jeevo ko saath rakhane ke lie vivash hua .manushy apane bauddhik vikaas ke saath –saath bheetar dhanse pashuon kee paashavik vrtiyon ka bhee samay samay par vikaas karata raha .use ‘’soshal eneemal ‘’ yon hee nahin kaha gaya hai .is maamale mein pashu pakshion ka jeevan chintan nahin badala .mahaakavi  niraala apanee ek kavita mein kahate hain –‘’viplav ran mein chhote bhee hai shobha paate ‘’.yah kathan bhee kavi ne us samay praasangik dikhaaya hai jab raam raavan ka yuddh charam par hai aur anirneet hai .yah dasha raam kee hai ki unaka antarvirodh badhata ja raha hai .sthir raam ko sanshay asthir kar raha hai .yah unake jeevan ka nirnaayak yuddh ho gaya hai .punah koee itana bheeshan yuddh raam ke jeevan mein aaya ho jahaan astitv ke saath aatmavishvaas bhee daav par chadh gaya ho aisa ullekh nahin milata .is kavita mein niraala ka niraalaapan is tathy se asaadhaaran ho jaata hai ki raam ka sanshay raavan kee aasuree shakti ke badhate prahaar ke kaaran nahin balki apane aatmavishvaas ke digane ke kaaran udit hua hai.aise mein unaka sahayog maanaveey shaktiyon ke badale maanavetar charitron ne vijay praapt karane tak kiya .

Vaise hee ,premachand kee rachanaon ke maanavetar charitr vichaaraneey hain jisake sahayog se ‘apane ran mein ‘ lekhak nirvighn nikalata chala gaya aur vahaan tak saphalata haasil kar lee kee ye charitr kaee  jagah maanaveey charitron se adhik nahin to kam bhee nahin rahe .kaee jagah to baajee maar lee .hamaaree panchatantreey parampara mein to ye shikshak hee rahe .premachand ka uddeshy sirph sahayog ,jaagaran ,udbodhan ke roop mein maanavetar charitron ke nirvaah mein raha .yah ek shodh ka chintan to ho hee sakata hai ki ye  maanavetar charitr premachand kee aadhunikata ke saath saath unakee paramparaagat, saanskrtik drshti- sampannata bhee siddh karatee hai .vivechana kee pahalee kisht mein premachand kee kahaaniyo mein chitrit maanavetar charitr hain


Kahaaniyaan


Do bailon kee katha

yah kahaanee premachand kee do bail – heera motee kee us jodee kee hai jisane kabhee ek dusare ka saath nahin chhoda chaahe maamala mauj mastee kee ho ya kaid se mukt hone kee ,donon kee aapasee samajhadaaree bhee saajhedaaree mein thee .premachand likhate hain ki donon ek dusare ka bhaav taad lete the .  kahaanee ka praarambh is prasang ke saath hota hai –kadaachit seedhaapan sansaar ke lie uchit nahin hai .dekhiye na , bhaaratavaasiyon kee aphreeka mein kya durdasha ho rahee hai ? kyon amareeka mein unhen ghusane nahin diya jaata?bechaare sharaab nahin peete,chaar paise kusamay ke lie bacha kar rakhate hai ,jee todakar kaam karate hain ,kisee se ladaee jhagada nahin karate  chaar baaten sunakar gam kha jaate hain phir bhee badanaam hain .kaha jaata hai ve jeevan ke aadarsh neecha karate hain .agar ve eet ka javaab patthar se dena sikh jaate to shaayad sabhy kahalaane lagate .jaapaan kee misaal saamane hai . ek hee vijay ne use sansaar kee sabhy jaati mein gany kar diya.


Leave a Comment