Rachana Sangrah

शरीर और प्रकृति


संसार में दो ही सम्बन्ध शाश्वत हैं – शरीर और प्रकृति का|

शरीर अराजक स्वछन्द अहं- वादी शासक है जबकि प्रकृति उसकी सहचरी शक्ति है|

प्रकृति प्रतिपल शरीर द्वारा पददलित उप्भोग्तावादी क्रय विक्रय की वस्तु बना दी गयी है|

शरीर द्वारा सबसे अधिक दोहन प्रकृति के संसाधनों का जो धरती का धन है किया गया है|

प्रकृति की भ्रूण हत्या से लेकर बलात्कार तक की शारीरिक यात्रा निर्भाध गति से जारी है|

शरीर प्रकृति को रौंदकर व्याधि और उसकी अनेक संततियों को स्वतः प्राप्त कर लेता है|

ये व्याधियां धीरे धीरे शरीर को ही अपना भोज्य बना लेता है|

क्यों व्याधि नविन नहीं है|

व्यधि पलना उसे संरक्षण देना शरीर का व्यसन है|

हर युग में हर बीमारी का नाम अनाम शरीर को कष्टदायक पीड़ा देकर उसे संसार से प्रस्थान करता रहा है|

हर युग में सिर्फ इसका नाम उपचार को ही खोजा गया है|

उस सेब की तरह जो न्यूटन से पहले भी गिरता था लेकिन नाम का मोहताज नहीं था|

शरीर की इसी अराजकता को देखते हुए बहुत पहले से ही इसको नियंत्रित अनुशासित करने के लिए योग का अविष्कार हुआ, जो अपने संकल्प –चित्त से शरीर के स्वामित्व में रहकर अपनी सहज वृत्तियों से शरीर को नष्ट करने वाले विकारों को समाप्त करता है|


Shareer aur prakrti

Sansaar mein do hee sambandh shaashvat hain – shareer aur prakrti ka.
Shareer araajak svachhand ahan- vaadee shaasak hai jabaki prakrti usakee sahacharee shakti hai. 
Prakrti pratipal shareer dvaara padadalit upbhogtaavaadee kray vikray kee vastu bana dee gayee hai. 
Shareer dvaara sabase adhik dohan prakrti ke sansaadhanon ka jo dharati ka dhan hai kiya gaya hai. 
Prakrti kee bhroon hatya se lekar balaatkaar tak kee shaareerik yaatra nirbhaadh gati se jaaree hai. 
Shareer prakrti ko raundakar vyaadhi aur usakee anek santatiyon ko svatah praapt kar leta hai. 
Ye vyaadhiyaan dheere dheere shareer ko hee apana bhojy bana leta hai. 
Kyon vyaadhi navin nahin hai. 
Vyadhi palana use sanrakshan dena shareer ka vyasan hai. 
Har yug mein har beemaari ka naam anaam shareer ko kashtadaayak peeda dekar use sansaar se prasthaan karata raha hai. Har yug mein sirf isaka naam upachaar ko hee khoja gaya hai. 
Us seb kee tarah jo newton se pahale bhee girata tha lekin naam ka mohataaj nahin tha. 
Shareer kee isee araajakata ko dekhate hue bahut pahale se hee isako niyantrit anushaasit karane ke lie yog ka avishkaar hua, jo apane sankalp –chitt se shareer ke svaamitv mein rahakar apanee sahaj vrttiyon se shareer ko nasht karane vaale vikaaron ko samaapt karata hai.


Leave a Comment