Kavita Sangrah

हमारे मोहल्ले में


हमारे मोहल्ले में –

सुबह होती है

कुछ लोग हाथ में झाड़ू ,पानी भरा मग

लगभग दौड़ते  हुए / सब के पांव

धोती लुंगी पाजामे में

पहुँचने जर्जर कभी गेट रहे गेट की काली मुंडेर तक पहुँचने

आकास से अधिक अगल बगल के मकानों की ओर देखते

आशंकाओं डरते

किसीने पहले तो नहीं बुला लिया कौओं को

फिर भी मंजिल तक पहुँच कर गहरी सां भरते हुए – मुंडेर को झाड़ू मारी

अगर कौओं को बुलाने की बाजी किसीने मार ली है –तो धीरे धीरे

क्योंकि कौए उड़ते जरूर हैं मगर इंसानों की तरह कल्पनाओं में नहीं

वहां खाने के बाद ही यहाँ पधारेंगे / अगर मकान  आसमान  कौओं से खाली है

तो पौ बारह /जल्दी से चिकनी चुपड़ी कुछ रोटियाँ लायेंगे / उसे टुकडें – गे

उसे मुंडेर पर बिखेर कर कौए बुलाएँगे / वे आंएगे / फिर कोई मिटटी स्टील या यों ही जग में ही [जिसका जी जितना ]

पानी पिलाएगा

फिर तृप्त हो

घर लौट कर सुबह को सुपुर्द होगा |

मेरे मोहल्ले में


hamaare mohalle mein


hamaare mohalle mein –

subah hotee hai

kuchh log haath mein jhaadoo ,paanee bhara mag

lagabhag daudate hue / sab ke paanv

dhotee lungee paajaame mein

pahunchane jarjar kabhee gate rahe gate kee kaalee munder tak pahunchane

aakaas se adhik agal bagal ke makaanon kee or dekhate

aashankaon darate

kiseene pahale to nahin bula liya kauon ko

phir bhee manjil tak pahunch kar gaharee saan bharate hue – munder ko jhaadoo maaree

agar kauwon ko bulaane ki baajee kiseene maar lee hai –to dheere dheere

kyonki kauwe udate jaroor hain magar insaanon kee tarah kalpanaon mein nahin

vahaan khaane ke baad hee yahaan padhaarenge / agar makaan aasamaan kauon se khaalee hai

to pau baarah /jaldee se chikanee chupadee kuchh rotiyaan laayenge / use tukaden – ge

use munder par bikher kar kaue bulaenge / ve aanege / phir koee mitatee steel ya yon hee jag mein hee [jisaka jee jitana ]

paanee pilaega

phir trpt ho

ghar laut kar subah ko supurd hoga

mere mohalle mein


Leave a Comment