Kavita Sangrah

शाम होते ही…


शाम होते ही हवाएँ गुम हैं

साँस लें भी तो नहीं और जियें कैसे

दिन के हर गर्दो गुबारों को लिए लौटा हूँ घर

वह तो जब भूल चुका था तो मिले कैसे

कितने सूरज को जो झेला हो वो कम कैसे है

अब तो एहसास ही नहीं है कि जले कैसे

रस्ते कितने मिले और मिलेंगे लेकिन

जिस्म के ठहरे हुए दिल को पता है कि चले कैसे

भूल मत छोड़ जिसे आया तू

तेरे हर आज को कह दे कि निकले कैसे…


Shaam Hote Hi…

Shaam hote hi hawaayen ghum hain

Saans len bhee to nahin aur jiyen kaise

Din ke har gardo gubaaron ko lie lauta hoon ghar

Wah to jab bhool chuka tha to mile kaise

Kitane sooraj ko jo jhela ho vo kam kaise hai

Ab to ehasaas hee nahin hai ki jale kaise

Raste kitane mile aur milenge lekin

Jism ke thahare hue dil ko pata hai ki chale kaise

Bhool mat chhod jise aaya tu

Tere har aaj ko kah de ki nikale kaise…


Leave a Comment