Kavita Sangrah

शहर शुभकामनाओं से टंगा भरा है


जन गण मन अभिशप्त

आतंकित हो उठा है

जिस किसी ने अपने चेहरे होर्डिंगों में

हाथ जोड़े नम्रता की कोशिशों में

गौर से देखो ,चमक उसकी नज़र की

एक भूखे भेड़िए की लपलपाती जीभ

टपकती लार की बूंदों से नहाये ,गंधाये वे शब्द

हर नुक्कड़ को अपने अपने जबड़ों में लेने को आतुर

हर चेहरे शब्द से उपर हैं

उसके अर्थ अनर्थ की गिरवी है

सेवा दुराचार की अर्धांगिनी है

सत्ता बड़ी निर्ममता से शब्द की आत्मा लील जाती है

इन्हें बचाने की जरुरत है


Shahar shubhakaamanaon se tanga bhara hai


Jan gan man abhishapt

Aatankit ho utha hai

Jis kisee ne apane chehare hordingon mein

Haath jode namrata kee koshishon mein

Gaur se dekho ,chamak usakee nazar kee

Ek bhookhe bhedie kee lapalapaatee jeebh

Tapakatee laar kee boondon se nahaaye ,gandhaaye ve shabd

Har nukkad ko apane apane jabadon mein lene ko aatur

Har chehare shabd se upar hain

Usake arth anarth kee giravee hai

Seva duraachaar kee ardhaanginee hai

Satta badee nirmamata se shabd kee aatma leel jaatee hai

Inhen bachaane  kee jarurat hai


Leave a Comment