Kavita Sangrah

कलाम को सलाम


आज फिर हम जुटे हैं

तिरंगे हवा में लहराने

जश्न मनाने /देश –भक्ति के –

ज़ज्बे दिल में जगाने –

खोजने होंगे उन शब्दों को

जिससे एक कलाम बना था

जो विज्ञानं की वीणा पर –मौन ,मधुर ,सौम्य

दक्षिण भारतीय राग से

उद्भाषित तो हुआ ,लेकिन –

अखिल विश्व की चेतना को अपनी झनक से

झंकृत , जागृत कर गया

जो मानवता का आदिम रूप –

मन ,मस्ती लेकर –

अंत अंत तक

हर साँस में

नया मानव ,नयी दुनिया नया अविष्कार

नए सपने ,नयी आशा नयी उड़ान के लिए

नए पंखों को सहेज रहा था

आज़ादी का आइना बनकर उसने

देश जी लिया था

अभी अभी इधर से एक ठहरा हुआ सम –

मंद मंद वीणा का अद्भुत विलंवित मौन –शीतल स्वर गुजरा है /आदिम प्रस्थान की ओर |


Kalam ko salaam


Aaj phir ham jute hain

Tirange hava mein laharaane

Jashn manaane /desh –bhakti ke –

Zajbe dil mein jagaane

Khojane honge un shabdon ko

jisase ek kalaam bana tha

Jo vigyaan kee veena par –maun ,madhur ,saumya

Dakshin bhaarateey raag se

Udbhaashit to hua ,lekin –

Akhil vishv kee chetana ko apanee jhanak se

Jhankrit , jaagrit kar gaya

Jo maanavata ka aadim roop –

Man ,mastee lekar –

Anth anth tak

Har saans mein

Naya maanav ,nayee duniya naya avishkaar

Nae sapane ,nayee aasha nayee udaan ke lie

Nae pankhon ko sahej raha tha

Aazaadee ka aaina banakar usane

Desh jee liya tha

Abhee abhee idhar se ek thahara hua sam –

Mand mand veena ka adbhut vilamvit maun –sheetal svar gujara hai /aadim prasthaan kee or


Leave a Comment