Kavita Sangrah

कहना चाहता हूँ

उन अबोध शिशुओं को

जिन्हें अभी अभी साँस मिली है

जो किसी भी खतरों को सूंघ नहीं पाते

जिन्हें एक मौत से अभी अभी छुटकारा मिला था

उनके नन्हें दिल को एक नन्हा सुराख देकर यहाँ रखा है जिसने

वे

उसके लिए प्यारा सा नाम खोज रहें हैं

जिसमें उसकी अमरता का विष भर दिया गया है


Kahana Chaahata Hoon


Un abodh shishuon ko

Jinhen abhee abhee saans milee hai

Jo kisee bhee khataron ko soongh nahin paate

Jinhen ek maut se abhee abhee chhutakaara mila tha

Unake nanhen dil ko ek nanha suraakh dekar yahaan rakha hai jisane

ve usake lie pyaara sa naam khoj rahen hain

jisamen usakee amarata ka vish bhar diya gaya hai

Leave a Comment