Kavita Sangrah

पिता होता है बनता नहीं


पिता
पुरुष नहीं
पद है
सनातन 
पर 
निर्भार
प्रथम पिता ने
अपनी संतति को
अपार धरती , प्राण वायु
प्रकृति का उदार स्नेह,
नदियां ,पर्वत , जीवन बांटती वनस्पतियां 
चांद, सूरज, तारे,आकाश
की देखरेख में ,
काल की अदृश्य उपस्थिति
सौंपकर
इस पद का अभिषेक किया होगा 
पिता होता है
बनता नहीं।


pita
purush nahin
pad hai
sanaatan
par
nirbhaar
pratham pita ne
apanee santati ko
apaar dharatee, praan vaayu
prakrti ka udaar sneh,
nadiyaan ,parvat , jeevan baantatee vanaspatiyaan
chaand, sooraj, taare,aakaash
kee dekharekh mein,
kaal kee adrshy upasthiti
saumpakar
is pad ka abhishek kiya hoga
pita hota hai
banata nahin।


Leave a Comment