Kavita Sangrah

क्या नदी सचमुच सूख जाती है?


मेरी माँ एक नदी थी
नाम था नर्मदा
अपना दस्तखत भी करती थी
कहते हैं – देश नदी से ही जन्म लेता है
लेकिन देश जब जवान होता है
बूढ़ा होने से पहले रिटायर भी कर जाता है
और सनकी होकर नदी को ही खतम कर एक नगर बसाने उसके प्राण की धारा को रोककर
उसका नाम नर्मदा दीवार और भवन के ऊपर लटका देता है
गंगा के बाद देश ने नर्मदा को ही तबाह किया है
कभी बचाने के नाम पर
कभी बचने के नाम पर
अन्ततः नदी चली गयी
मैं खड़ा था
उसकी खुली आंख मुझे देख रही थी
डॉक्टर वेंटिलेशन खोल रहा था
मैं उसकी आँखों को बंद कर रहा था
क्या
नदी सचमुच सूख जाती है?


Kya Nadi Sachmuch Sookh Jaati hai? 


Meri Maa ek nadi thi
naam tha narmada
apna dastakhat bhi karti thi
kahate hain desh nadi se hi janam leta hai
lekin desh jab javaan hota hai 
boodha hone se pahale ritaayar bhee kar jaata hai 
aur sanakee hokar nadi ko hee khatam kar ek nagar basaane usake praan kee dhaara ko rokakar
usaka naam narmada deevaar aur bhavan ke oopar lataka deta hai 
ganga ke baad desh ne narmada ko hee tabaah kiya hai 
kabhee bachaane ke naam par 
kabhee bachane ke naam par 
antatah nadi chali gayi 
main khada tha 
usakee khulee aankh mujhe dekh rahee thee 
doctor ventilation khol raha tha 
main uski aankhon ko band kar raha tha 
kya 
nadi sachmuch sookh jaati hai?

Leave a Comment