Rachana Sangrah

जाति प्रश्न


इस समय कहीं भी ,कभी भी चाहे बौद्धिक या अबौद्धिक, दैनिक जीवन के विचारों में जिस निष्फल प्रश्न को जन्म देते हैं , वह है –जाति प्रश्न |

इस देश का दुर्भाग्य कि जो भी जन्म लेता है वह किसी जाति विशेष का ही जातक होता है |

मैं नहीं जनता कि इतनी जातियां ,प्रजातियाँ ,यहाँ तक कि बहुतेरी उप –जातियां किसी और देश के ललाट में लिखी होंगी |

हर कोई इस प्रश्न पर अपने अपने ढंग से विमर्श तो करता है लेकिन यह प्रश्न अटल है |

इस बहाने बहुतेरों के काम बने ,बहुतों को संताप मिला |

यहाँ तक कि यह प्रश्न देश के शासन ,प्रशासन के शीर्ष से लेकर औसत , हाशिये से बाहर एक अदना आदमी का विचार प्रधान प्रश्न हो चुका है |

नीतियाँ बनती हैं ,सरकारें बनती बिगड़ती हैं , लाभ हानि का खेल चलता है , दंगों का बाजाप्ते आयोजन होकर अमानवीय कृत्यों का तांडव सृजित होता है , और यह देश मूक बधिर हो अपनी नियति को झेल रहा है |

हिंदी साहित्य का विद्यार्थी रहा हूँ | जनता ही नहीं मानता भी हूँ कि इस साहित्य के इतिहास का भक्ति काल स्वर्ण काल की तरह चमकता , पारदर्शी और इससे भी बड़ी बात कि कविता का एकमात्र प्रजातांत्रिक काल हुआ है |

भारत के राज तंत्र के काल में हिंदी कविता ने जिस प्रकार प्रहार ,संघर्ष , अपमान की जानलेवा दुखदायी दंश झेल कर भारतीय लोकतंत्र की नींव रखी थी वह आज भी ‘ हारे को हरिनाम ‘की तरह काम दे रहा है |

समाधान की कोई उक्ति अनायास इसी काल से ही आज तक निकल रही है |

‘ जाके राज प्रिय प्रजा दुखारी , सो नृप अबसी नरक अधिकारी ‘ की व्यंजना इतनी सांघातिक रही थी जिस कारण तत्कालीन शासक के रक्षाकर्मियों की नींद उड़ गयी थी |

ऐसे ऐसे कई दृष्टान्त इस काल की प्रजातान्त्रिक संरचना के निमित्त संतों , भक्तों आदियों ने प्रक्षेपाश्त्र की तरह आविष्कृत किये|

देखा जाय तो सम्पूर्ण भक्ति काल भारतीय जीवन मूल्य और जीवन दृष्टि की मौलिक और अतुल्य आधारशिला के स्थापन का ही काल है |

आम जन की वैचारिक बढ़त इतनी कि अभिव्यक्ति की धार और मार से धरती के शासन की औकात परम ब्रह्म को सामने रखकर उसकी धता बताती रही|

क्या उत्तर या दक्षिण भक्ति के ब्याज से सम्पूर्ण भारत जिस प्रकार चार मार्गों को काव्य की अप्रतिम अविव्यक्ति से इस काल को पारिभाषित कर रहा था उसका समाहार एक ही सिद्धांत पर हुआ था –मनुष्य की प्रतिष्ठा और मुक्ति |

इस प्रसंग में विशेष बात यह कि इस काल के सभी विचारक सभी जातियों से आते थे और सगर्व घोषणा भी करते थे –‘ मैं काशी का जुलाहा ‘|

किसी विचारक संतों , भक्तों को जाति बाधा नहीं थी | विभिन्न जातियों को अपने पारंपरिक कर्म और जीवन –चिंतन में उन्मुक्त चेतना ही काम देती रही |

अपनी जाति से सभी भक्त कवियों का अकुंठ तादात्म्य बना ही रहा | ध्यातव्य यह भी कि आज की भाषा में जिस जाति विशेष को विविध नामकरणों से नवाज़ा जा रहा है तथा साहित्यगत राजनीति के तहत अलग से उसके लिए ‘ विमर्श ‘ मुक्ति आन्दोलन ‘ आदि का जुमला चलाकर साहित्यबाजी चल रही है इसी जाति विशेष ने भक्ति आन्दोलन को स्वर्णिम बनाकर भारत का असली चेहरा भी पेश किया था |

उनके चिंतन पर जाति सवार नहीं रही | जाति ‘ धारयति धर्मः ‘ की तरह सबको वरेण्य ही थी | न कोई हीन न कोई महान | सभी अपने अपने घरों से निकलकर सामाजिक चरित्र का निर्माणकारी लक्ष्य संधान में लगे थे |

आपवीति और आत्मकथा कहने की जरूरत ही नहीं पड़ी | बल्कि देखा जाय तो इस काल का अकेला भक्त शिरोमणि बाबा तुलसीदास सबको पार करते हुए यहाँ तक कह गए – ‘धूत कहौं ‘अवधूत कहौं ‘राजपूत कहौं जुलहा कहौं कोई और यह भी कि पूरे भक्तिकाल में सबसे मुखर जातिमुक्त जीवन जीने का प्रमाण इन्होंनेही दिया |

अन्य संत अपनी विचारधारा में ‘ जाति न पूछो साधू की ….’ जरुर कहते रहे लेकिन गोस्वामी जी ने इसे जी भर जिया और भारत के प्रजातंत्र का सूत्र रामचरित के बहाने प्रस्तुत कर दिया |

मीरा के गुरु रैदास जी ही थे |कबीर का विद्रोह भी जाति तत्त्व को इतना महीन बुनकर भारत की सामाजिक परंपरा को ओढाता रहा जिस कारण उन्हें मनु स्मृति जलाने की नौबत ही नहीं आई |

किसी ने जाति प्रश्न पर कोई ऐसा वक्तव्य इस काल में नहीं दिया है जो समाज में विद्वेष , घृणा और अलगाव के सड़े स्वार्थ के पंक से पैदा हुआ हो |

सभी अपने जाति कुल के अभिमानी थे और समान रूप से समाज के सच्चे पहरुए थे |इसके पीछे कारण यह भी था कि जाति तो जन्म कुल से सभी संतों ने विरासत में पाई थी जिस कारण उसके परत सम्मान ही रखा |

हाँ , जहाँ जातिगत विभेद को देखा वहीँ उसकी हत्या कर दी ,मनुष्यों की नहीं ऐसे कुविचारोंकी ||


Jaati Prashn


Is samay kaheen bhee ,kabhee bhee chaahe bauddhik ya abauddhik, dainik jeevan ke vichaaron mein jis nishphal prashn ko janm dete hain , vah hai –jaati prashn.

Is desh ka durbhaagy ki jo bhee janm leta hai vah kisee jaati vishesh ka hee jaatak hota hai.

Main nahin janata ki itanee jaatiyaan ,prajaatiyaan ,yahaan tak ki bahuteree up –jaatiyaan kisee aur desh ke lalaat mein likhee hongee.

Har koee is prashn par apane apane dhang se vimarsh to karata hai lekin yah prashn atal hai.

Is bahaane bahuteron ke kaam bane ,bahuton ko santaap mila.

yahaan tak ki yah prashn desh ke shaasan ,prashaasan ke sheersh se lekar ausat , haashiye se baahar ek adana aadamee ka vichaar pradhaan prashn ho chuka hai.

Neetiyaan banatee hain ,sarakaaren banatee bigadatee hain , laabh haani ka khel chalata hai , dangon ka baajaapte aayojan hokar amaanaveey krtyon ka taandav srjit hota hai , aur yah desh mook badhir ho apanee niyati ko jhel raha hai. Hindi saahitya ka vidyaarthee raha hoon. Janata hee nahin maanata bhee hoon ki is saahity ke itihaas ka bhakti kaal svarn kaal kee tarah chamakata , paaradarshee aur isase bhee badee baat ki kavita ka ekamaatra prajaataantrik kaal hua hai. Bhaarat ke raaj tantra ke kaal mein hindi kavita ne jis prakaar prahaar ,sangharsh , apamaan kee jaanaleva dukhadaayee dansh jhel kar bhaarateey lokatantr kee neenv rakhee thee vah aaj bhee ‘ haare ko harinaam ‘kee tarah kaam de raha hai. Samaadhaan kee koee ukti anaayaas isee kaal se hee aaj tak nikal rahee hai.

Jaake raaj priya praja dukhaaree , so nrip abasee narak adhikaaree kee vyanjana itanee saanghaatik rahee thee jis kaaran tatkaaleen shaasak ke rakshaakarmiyon kee neend ud gayee the. Aise aise kaee drshtaant is kaal kee prajaataantrik sanrachana ke nimitt santon , bhakton aadiyon ne prakshepaashtr kee tarah aavishkrt kiye. Dekha jaay to sampoorn bhakti kaal bhaarateey jeevan mooly aur jeevan drshti kee maulik aur atuly aadhaarashila ke sthaapan ka hee kaal hai. Aam jan kee vaichaarik badhat itanee ki abhivyakti kee dhaar aur maar se dharatee ke shaasan kee aukaat param brahm ko saamane rakhakar usakee dhata bataatee rahe. Kya uttar ya dakshin bhakti ke byaaj se sampoorn bhaarat jis prakaar chaar maargon ko kaavy kee apratim avivyakti se is kaal ko paaribhaashit kar raha tha usaka samaahaar ek hee siddhaant par hua tha –manushy kee pratishtha aur mukti. Is prasang mein vishesh baat yah ki is kaal ke sabhee vichaarak sabhee jaatiyon se aate the aur sagarv ghoshana bhee karate the –‘ main kaashee ka julaaha. Kisee vichaarak santon , bhakton ko jaati baadha nahin thee. Vibhinn jaatiyon ko apane paaramparik karm aur jeevan –chintan mein unmukt chetana hee kaam detee rahee. Apanee jaati se sabhee bhakt kaviyon ka akunth taadaatmy bana hee raha. Dhyaatavya yah bhee ki aaj kee bhaasha mein jis jaati vishesh ko vividh naamakaranon se navaaza ja raha hai tatha saahityagat raajaneeti ke tahat alag se usake lie ‘ vimarsh ‘ mukti aandolan ‘ aadi ka jumala chalaakar saahityabaajee chal rahee hai isee jaati vishesh ne bhakti aandolan ko svarnim banaakar bhaarat ka asalee chehara bhee pesh kiya tha. Unake chintan par jaati savaar nahin rahee. Jaati ‘ dhaarayati dharmah ‘ kee tarah sabako vareny hee thee. Na koee heen na koee mahaan. Sabhee apane apane gharon se nikalakar saamaajik charitra ka nirmaanakaaree lakshy sandhaan mein lage the. Aapaveeti aur aatmakatha kahane kee jaroorat hee nahin padee. Balki dekha jaay to is kaal ka akela bhakt shiromani baaba tulaseedaas sabako paar karate hue yahaan tak kah gae – ‘dhoot kahaun ‘avadhoot kahaun ‘raajapoot kahaun julaha kahaun koee ‘. Aur yah bhee ki poore bhaktikaal mein sabase mukhar jaatimukt jeevan jeene ka pramaan inhonnehee diya. Any sant apanee vichaaradhaara mein ‘ jaati na poochho saadhoo kee ….’ jarur kahate rahe lekin gosvaamee jee ne ise jee bhar jiya aur bhaarat ke prajaatantr ka sootr raamacharit ke bahaane prastut kar diya. Meera ke guru raidaas jee hee the. Kabeer ka vidroh bhee jaati tattv ko itana maheen bunakar bhaarat kee saamaajik parampara ko odhaata raha jis kaaran unhen manu smrti jalaane kee naubat hee nahin aaee. Kisee ne jaati prashn par koee aisa vaktavy is kaal mein nahin diya hai jo samaaj mein vidvesh , ghrna aur alagaav ke sade svaarth ke pank se paida hua ho. Sabhee apane jaati kul ke abhimaanee the aur samaan roop se samaaj ke sachche paharue the. Isake peechhe kaaran yah bhee tha ki jaati to janm kul se sabhee santon ne viraasat mein paee thee jis kaaran usake parat sammaan hee rakha. Haan , jahaan jaatigat vibhed ko dekha vaheen usakee hatya kar dee ,manushyon kee nahin aise kuvichaaronkee.


Leave a Comment