Month: August 2015

जन गण मन

ॐ जन –आँख उठाये /तकते गगन उलझती आँखों से /संकट की राह भरोसा किसीका नहीं /हांफती जिंदगी जो छूता /वही पत्थर कहाँ जाए /किसे कहे एक खारा सैलाब /चल पड़ा है अपनी जगह /अपना आसमान /खोजने – जंगल, मैदान, सिन्धु, कावेरी, गंगा, गोदावरी, नर्मदा और पर्वत भी वह उतना...

सुख – दुःख

ॐ जिस सुख को पाया है तूने क्या वह सुख तेरा है ? जिस दुःख को पाया है तूने क्या वह दुःख तेरा है ? क्या होता सुख पा लेने पर मन की आस उमग जाती है क्या होता है दुःख पाने पर मन की आस चली जाती है...

साहित्य जीवन का कोलाज़ है

ॐ मानव जीवन की सनातन उपलब्धि का बोध जिस शास्त्र से प्रमाण सहित प्राप्त होता है उसका नाम साहित्य है . साहित्य नाम इसलिए कि इस चेतना की विशेषता सहित –ता में संभावित हुई है .मानव जीवन ने अपने विचारों ,भावों और संस्कारों की संरक्षा इसी माध्यम से किया ...

कलाम को सलाम

ॐ आज फिर हम जुटे हैं तिरंगे हवा में लहराने जश्न मनाने /देश –भक्ति के – ज़ज्बे दिल में जगाने – खोजने होंगे उन शब्दों को जिससे एक कलाम बना था जो विज्ञानं की वीणा पर –मौन ,मधुर ,सौम्य दक्षिण भारतीय राग से उद्भाषित तो हुआ ,लेकिन – अखिल...